बेटी (Beti) 

Beti – Hindi Poem By Anoop Rai

It’s an Hindi poem from a little girl’s point of view who is asking  his father to treat her equally like his brother and let her live her dreams.

 हूं मैं भी तुम्हारा ही अंश

खुलकर मुझे जीने दो,

भेदभाव को छोड़कर,

तुम अच्छे पिता बनो !!

 
क्यों मुझको अपने भाई सी,

आजाद जिंदगी मुकम्मल नहीं

क्यों मैं मतलबी दुनिया में ,

कमज़ोर बनकर रह गई !!

 
ज़ुल्म सहना चुपचाप रहना,

ना जाने कब आदत बनी

वक़्त आगे चला गया पर मैं ,

पर मैं वही की वही रही !!

 

खुद्दार बन कर मैं अपने

सपने सारे साकार करूं

बस इतनी सी गुजारिश है मेरी ,

आखिर मैं तुम्हारी बेटी ही हूं !!

 

– अनूप राय                                                   (Anoop Rai)

#Likhdoharpalko  #AnoopRaiPoetry #AnoopRai #Hindi #Beti #PoemonDaughter #HindiPoem #Kavita

Éhsaas- AnoopRaiPoetry

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s